बाबर के चार युद्ध कौन कौन से थे?

बाबर के चार युद्ध कौन कौन से थे?

बाबर के चार युद्ध– बाबर को मुगल वंश का संस्थापक माना जाता है। बाबर ने 12 बाबर ने केवल 12 वर्ष की आयु में फरगान राज्य पर अपना कब्जा कर वहाँ का उत्तराधिकार प्राप्त कर लिया था।  लेकिन मंगोलो के कारण  बाबर को अपनी गद्दी से हाथ धोना पड़ा था। बाबर इसके बाद बहुत समय तक ऐसे ही भटकता रहा लेकिन 1504 में बाबर ने काबुल पर कब्जा कर राज गद्दी को प्राप्त किया।

बाबर के चार युद्ध जो इतिहास में जाने जाते है।

बाबर ने बहुत से छोटे-बड़े युद्ध लड़े लेकिन बाबर के चार युद्ध प्रमुख जिनका इतिहास में खास महत्वपूर्ण स्थान रहा है। इन्हीं युद्धों के कारण ही बाबर मुगल सत्ता बनाने में सफल रहा था।

ये भी देखे- कलन्दर के नाम से कौन जाना जाता है?

1- पानीपत का प्रथम युद्ध

पानीपत का प्रथम युद्ध सन 1526 में लड़ा गया था। यह युद्ध दिल्ली के सुल्तान इब्राहिम लोदी और बाबर के बीच लड़ा गया था। जिसमें लोदी की हार हुई थी। पानीपत के प्रथम युद्ध की खास बात यह थी की इस युद्ध में सबसे पहले तोप और गोलाबारी का इस्तेमाल किया गया था। जिसने बाबर की शक्ति को और अधिक बढ़ा दिया था। इस युद्ध के बाद बाबर ने दिल्ली और आगरा पर अपना कब्जा कर लिया था।

2- खानवा का युद्ध

खानवा का युद्ध 1527 में पानीपत के युद्ध के एक साल बाद लड़ा गया था। यह युद्ध राणा सांगा व उनके राजपूत समर्थकों तथा बाबर के बीच हुआ था। इस युद्ध में बाबर की जीत हुई थी। यह युद्ध पानीपत के युद्ध के बाद दूसरा सबसे बड़ा युद्ध था।

3- चन्देरी का युद्ध

चन्देरी का युद्ध 1528 मे लड़ा गया था। ये युद्ध बाबर और मेदिनीराय जो की एक राजपूत शासक था के बीच लड़ा गया था। इस युद्ध में भी बाबर की जीत हुई और मेदिनीराय हार गया।

4- घाघरा का युद्ध

यह युद्ध सन 1529 में हुआ था। और इस युद्ध में भी बाबर की जीत हुई थी। ये युद्ध बाबर और महमूद लोदी के बीच लड़ा गया था जो  इब्राहिम लोदी का बड़ा भाई था।

इन सभी युद्ध जीतने के बाद सन 1530 में आगरा में बाबर ने अन्तिम सांस ली। इसे आगरा के आरामबाग में दफनाया था।

 

 

3 thoughts on “बाबर के चार युद्ध कौन कौन से थे?

Comments closed