मोरल स्टोरी “आज मेरे भाई ने मुझे चाटां मारा मुझे बहुत बुरा लगा”

मोरल स्टोरी इन हिंदी

मोरल स्टोरी – ये कहानी है (मोरल स्टोरी) दो छोटे भाइयों की जो एक बार एक घने रेगिस्तान में चले जा रहे थे। उन दोनों भाइयों में छोटा भाई थोड़ा शरारती एवं चंचल प्रवृत्ति का था। जब वो दोनो उस रेगिस्तान में चले जा रहे थे तभी छोटे भाई के मन में कुछ शरारत सूझी और  उस ने कुछ ऐसी शरारत की के बड़े भाई को उसे चांटा लगाना पड़ा इस पर उस छोटे भाई को बुरा लगा थोड़ी दूर चलने पर वो एक स्थान पर रुके जब वो रास्ते में एक स्थान पर रुके तब उस छोटे भाई ने  रेत पर लिखा ” आज मेरे भाई ने मुझे चांटा मारा मुझे बहुत बुरा लगा” ये सब उस का बड़ा भाई देख रहा था मगर उस समय की स्थिति के अनुसार वह चुप रहा और कुछ नही बोला।

थोड़ी देर बाद वो दोनो आगे बढ़े और उन्होने एक नदी देखी नदी देख कर बड़े भाई को विचार आया कि हमे यहाँ रुक कर स्नान करना चाहिए। जब वह दोनो स्नान के लिए बढ़े तो अचानक छोटे भाई का पैर नदी में फिसल गया और वह छोटा भाई डूब ने लगा अपने भाई को डूबते देख बड़ा भाई बिना किसी देरी के उस की मदद के लिए नदी में कूद पड़ा और अपने छोटे भाई को डूब ने से बचा लिया।

ये भी दखें- वेली हाउस का रहस्य क्या था?

इस घटना के बाद उस छोटे भाई ने फिर से कुछ लिखा पर इस बार उस छोटे लड़के ने रेत पर नही बल्कि एक पत्थर पर लिखा उसने  लिखा कि ” आज मेरे भाई ने मेरे प्राणों की रक्षा की मुझे बहुत अच्छा लगा ”

उसका भाई यह सब देख रहा था उस बड़े भाई के मान में विचार आया और उस से रहा नही गया उस ने तुरंत अपने छोटे भाई से पूछा? भाई जब मैने तुम्हें तुम्हारी ग़लती पर चांटा मारा तो तुम ने इसे रेत पर लिखा और जब मैने तुम्हें बचाया तो तुम ने इसे एक पत्थर पर ही क्यों लिखा जबकि तुम फिर से इसे रेत पर भी लिख सकते?

इस पर उस के छोटे भाई ने  कहाँ जब तुमने मुझे चांटा मारा तो मैने ये सब रेत पर लिखा और जब तुमने मेरी जान बचाई तो पत्थर पर ऐसा इस लिए जब कोई अपना हमे भलाई के लिए डांटे तो उसे रेत पर लिखे शब्दों की तरह दिल में लिखना चाहिए ताकि हम इसे जल्द भुला दे और जब हमारे लिए कोई अच्छा करे तो उसे हमे हमेशा इस पत्थर पर लिखे अमिट शब्दों की तरह इन्हे दिल में लिखना चाहिए जो कभी भुलाया ना जा सके।