वायरस निर्जीव होता है या सजीव?

वायरस निर्जीव होता है या सजीव?

वायरस यानि विषाणु निर्जीव है या सजीव? वायरस की खोज रूसी वैज्ञानिक इवानोवस्की ने सन 1892 में की थी। वायरस निर्जीव है या सजीव इसका अध्ययन तम्बाकू में होने वाले मोजैक रोग पर करने के बाद ज्ञात हुआ। इस किए गए अध्ययन के अनुसार वायरस की प्रकृति सजीव और निर्जीव दोनों प्रकार की होती है। यही कारण है कि विषाणुओं को सजीव और निर्जीव की कड़ी माना जाता है।

ये भी देखें-
📌वायरस से होने वाले रोगों के नाम क्या है?
📌 वायरस जीवित प्राणियों पर ही क्यों हमला करता है?
📌 ब्लू बेबी सिंड्रोम रोग क्या है?

2 thoughts on “वायरस निर्जीव होता है या सजीव?

Comments closed