सीमांत घर्षण बल किसे कहते हैं?

सीमांत घर्षण बल किसे कहते हैं?

किन्ही दो वस्तुओं के बीच लगने वाले विपरीत बल को घर्षण बल कहते हैं घर्षण बल की दो अवस्थाएं हो सकती हैं पहली अवस्था जिसमें कोई वस्तु घर्षण के साथ चल रही हो दूसरी अवस्था जब कोई वस्तु घर्षण के कारण किसी पृष्ठ पर रुकी हुई हो एक ऐसी वस्तु जो घर्षण के कारण किसी पृष्ठ पर रुकी हुई है लेकिन उस पर जरा सा बल भी लग जाए तो वह फिसल जाएगी अर्थात जब वस्तु ठीक फिसलने की अवस्था में होती है तो उसे ही सीमांत घर्षण बल कहते हैं|

सीमांत घर्षण किसी वस्तु को एक हद तक रोके रखने की अवस्था है जिसके बाद थोड़ा सा भी बल लगा दिया जाए तो तो वस्तु अपने स्थान से विस्थापित हो जाएगी यही सीमांत घर्षण बल कहलाता है

ये भी देखें- लोहे का टुकड़ा पानी में डूब जाता है लेकिन पारे में तैरता है क्यूं?

0