जानवर अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है?

जानवर अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है?

जानवर अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है? – दोस्तों मनुष्य इस धरती पर एक मात्र ऐसा जीव है जिसमे अन्य जीवों के मुकाबले सोचने समझने की शक्ति अधिक है। हम  परिवार के सदस्यों, दोस्तों अथवा रिस्तेदारों की पहचान सुनकर और देखकर कर ही लेते है। ऐसा इस लिए क्योंकि मनुष्य एक मात्र ऐसा जीव है जिसमे जो देख कर सुनकर पहचान कर सकता है। यह मनुष्य का एक गुण है जो ईश्वर द्वारा उसे प्रदान किया गया।  ऐसा नही है कि सिर्फ इंसान ही पहचान करने की क्षमता रखता है अन्य जीव है जो पहचान करने की क्षमता रखते है।
लेकिन क्या आपने सोचा है कि जीव-जन्तु किस प्रकार से अपने शिशु की पहचान कैसे करते है? जैसा  कि हम जानते है कि जानवरों मे सोचने की क्षमता का अभाव होता है ये केवल समझ सकते है।

ये भी देखें- गिद्धों के मरने का क्या करण था?

लेकिन प्रश्न यह उठता है कि आखिर किस प्रकार अन्य जीव अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है? तो चलिए आज की इस लेख मे जानते है कि आखिर इंसान के विपरीत जीव-जन्तु अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है?

जानवर अपने बच्चों की पहचान कैसे करते है?

जानवरों को अपने बच्चों की पहचान करने के अनुसार तीन स्थितियों में बाँटा जाता है ऐसा नही है कि सभी जानवरों के पहचान करने का तरीका एक सा है सभी का अलग तरीका होता है। जीव अलग – अलग तरीके से अपने बच्चों की पहचान करते है। कुछ जानवर अपने बच्चों को चाट कर उन पर एक रसायानिक लगा देते है। जो उन्हे अपने बच्चों की पहचान करने में सहायक होता है। इसी प्रकार कुछ जीव ऐसे भी होते है जो देख कर अपने बच्चों की पहचान कर सकते है। और कुछ ऐसे जीव भी है जो ध्वनि के मध्यम से भी अपने बच्चों की पहचान कर सकते है।

  • देखकर पहचान
  • ध्वनि  के माध्यम से
  • रसायन छोड़ कर